13/03/2013

बस कुछ यूँ हीं....


हांसिल करना मेरे जिद में नहीं ,वरना क्या मजाल थी तेरी ;
जो मुझसे बिना शिकवे -गिले किये दूर हो जाती ...
देख मोहब्बत भी किया है और देवदास भी नहीं हूं, हाँ कुछ अफशोस है . पर सच्चे और पक्के इरादे के से तेरे साथ भी था और अब भी हूं .....पर हांसिल करना मेरे जिद में नहीं ,वरना क्या मजाल थी तेरी .....
एक टिप्पणी भेजें