20/08/2011

दो बूंद ...मुद्दतों बाद ......

ना-ना आप तनिक भी मत घबराइए हमारे  ''शीर्षक बाबू '' से , दरअसल हम मुद्दतों बाद कुछ भड़ासी शब्द गढ़े हैं . तो ये साहब शोर्ट -फॉर्म में आपको समझाने की कोशिश कर रहे है . खैर बहुत दिनों  से काफी असमंजस में था की कुछ लिख नहीं पा रहा हूँ . आज बहुत दिनों बाद काफी शुकून मिला है -जो कुछ लिखा तो .कुछ अलग या हटके नहीं है ''वर्तमान '' की परछाई है , शब्द पुरखों के ही हैं , पर अंदाज़े -बयां अपनौती (अपना) है ..................


१. फिर चलेगी शायर की कलम क्योंकि फिर कोई '' दुरुस्त '' आया है 
   बस वही 'तौर' है वो गाँधी था ये अन्ना का दौर है .
२. कुछ कुर्बानियां होंगी , कुछ रोटियां सेंकी जाएगी
कुछ नए घोंसले बनेगे चमन में                                                                                                               कुछ पुराने घरौंदे आप हीं उजर जायेंगे .......
-                                                                                                                                                                       
चलते -चलते > बदलाव जरुरी है पर खुद को बदलना बेहद जरुरी और सर्वोपरी है , 
हम भ्रष्टाचार का विरोध करते हैं और अन्ना को नमन करते है, आशा है हम और हमारी सरकार अन्ना से जरुर कुछ सीखेंगे . हम इसलिए क्योंकि सरकार हमी ने बनाया है..
एक टिप्पणी भेजें